Quran Me Parivartan

कुरान में परिवर्तन

150

The book presents substantial evidences to rebut the old claim of Muslims that Quran is divine and cannot be changed.

यह पुस्तक मुस्लिमों के इस दावे का सप्रमाण खंडन करती है कि कुरान खुदायी किताब है और इसमें परिवर्तन नहीं हो सकता |

Language: Hindi
Author: Pt. Satyadev
SKU: 11030 Category:

Available Check At

Cover Paper Back
Length (cms) 21.1
Width (cms) 14.0
Height (cms) 1.0
Qty Single Book
Translation / Original Original
Translator
Current Copy Year 2018
Total Page 244

 

 

 

 

 

संसार में तीन वस्तुएं- सत्ताये नित्य हैं, सदा से हैं और रहेगी। ईश्वर-जीव-प्रकृति तीनों नित्य हैं। ईश्वर का ज्ञान वेद भी शुद्ध-नित्य है। कभी भी नष्ट नहीं होता और परिवर्तन भी न होता। ठीक इसी तरह से इस्लाम को मानने वाले कुरान को खुदाई किताब कहते है, जो अनुचित है। क्योंकि यदि कुरान खुदाई ज्ञान-पुस्तक है तो फिर समय-समय पर परिवर्तन, सुधार, फेर-बदल आदि क्यों? इस पुस्तक में जो भी कुरान में परिवर्तन हुए हैं, उनको सप्रमाण, पतों सहित दर्शाया (बताया) है। जैसे- किसके मत में कुरान की अक्षर संख्या कितनी? सुयूती इब्ने अब्बास की कुरान में अक्षर संख्या 323671, सुयुतल उम्रिब्नेखताब की कुरान में अक्षर संख्या 1027000 इस तरह कम से कम 10 मतों का विवरण प्रस्तुत किया। कुरान में अक्षर की संख्या- आलिफ 48876, जीम 3272 इस प्रकार अनेक परिवर्तन हैं। पुस्तक के नाम में मतभेद, कुरान की आयतों तथा सूरतों की संख्या में भेद-परिवर्तन, कुरान शरीफ में 74 भाषाओं के शब्द पाये जाते है, जो कभी ईश्वरीय ज्ञान न होना का प्रमाण है। कुरान पथ प्रदर्शक-वेद। वेद के आधार पर रचना की अध्याय आदि, कुरान में परस्परविरोधी विचारों के स्थल, मुहम्मद की संक्षिप्त जीवन परिचय सहित शोधार्थियों हेतु उत्तम पुस्तक है। Specifications : Cover Paper Back Length (cms) 21.1 Width (cms) 14.0 Height (cms) 1.0 Qty Single Book Translation / Original Original Translator Current Copy Year 2018 Total Page 244
Weight 220 g
Dimensions 21.1 × 14 × 1.0 cm
Language

Hindi

Authors

Pt. Satyadev

Publisher

Amar Swami Prakashan Vibhag

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.